"The hardest of all is learning to be a well of affection,and not fountain,to show them that we love them,not when we feel like it,but when they do"

Wednesday, January 11, 2012

फिर..


उस दहर पे फिर लौट आए
हर ज़र्रा कुछ यही कह रहा है

तू दूर जा रहा है मुझसे 
या करीब आ रहा है?

कह भी नहीं सकते 
छुपा भी नहीं सकते

तेरी खुशबु लिए हर नफस में 
उन निगाहों के आघोष में 

तेरी रूह से लिपट ये दिलबर 
फिर मोहोब्बत की खता कर रही है . .

11 comments:

Lilangel said...

Lovely lines...and beautiful poem...

Love the name of the poem - Phir..pretty deep :)

Ishiyeta Saxena said...

Chaa gayye! ^_^

Rahul said...

goood one!!!!!:-)

Blasphemous Aesthete said...

क्या बात है, क्या बात है, फिर से मोहोब्बत हो चली है?


Cheers,
Blasphemous Aesthete

Alcina said...

@Lilangel
thanx dear..
Happy to see you here..

As deep as you can see :)

tc

Alcina said...

@Ishi
Ji apne kaha hi kuch aisa :P ;)

Thanx!

Alcina said...

@Rahul
Really?

Thank u

Alcina said...

@Blasphemous Aesthete
Ji haan pichle wale ka sequel samajh lijiye :P

Ek baar nahi baar baar hoti rehti hai.

GvSparx - Inspiring Lives said...

तेरी रूह से लिपट ये दिलबर
फिर मोहोब्बत की खता कर रही है . .

ए बेदर्द क्यों इस कदर फिर,
खुद को तबाह कर रही है |

Alcina said...

@Gv
Janab barbad nahi aabaad kahiye.. :)

Mohobbat haye jisse ho jaye bada khushnaseeb hai..jiss se ho jaye usko toh mano duniya mil jaye :)

Fatima said...

तू कल था या तू आज नहीं,
सपना था या हकीकत,
ये मालूम नहीं...
कहना चाहू तोह भी कह ना सकू
डर लगता है अब इस मोहबत से...
जो छह कर भी
दूर जाने न दे ना पास आने दे...


अपना ख्याल रखना !